Tuesday, May 11, 2021
HINDI NEWS PORTAL
Home > Sahitya > एक शायरा — एक ग़ज़ल

एक शायरा — एक ग़ज़ल

जब जब दिल ये पागल रोए
देख के मंज़र बादल रोए

नैन मिला कर तुझ से साजन
हर दिन मेरा काजल रोए

पंघट पर जब उसको देखा
गागर रोई छागल रोए

जिस पे लिखी है माँ की कहानी
उस ममता का आँचल रोए

जब से पड़ी है पांव में बेड़ी
चुप चुप सी ये पायल रोए

शमां वो बैरी जादूगर है
किस के लिए तु पागल रोए

सय्यदा नफीस बानो शमां

दिल्ली , भारत

***********************************************

***********************************************

***********************************************