Tuesday, May 11, 2021
HINDI NEWS PORTAL
Home > Sahitya > एक शायरा — एक ग़ज़ल

एक शायरा — एक ग़ज़ल

वो चाँद लगा मुझ को सितारा वो लगा था
इक दोस्त बहुत प्यारा था प्यारा वो लगा था

जब उस ने बचाया मुझे , मैं डूब रही थी
बिफरी हुईं मौजों में किनारा वो लगा था

कुछ अश्क मिरे उस को रुलाते रहे हरदम
कुछ अपने मुक़द्दर का भी मारा वो लगा था

गो उस की मुहब्बत में कई और थे शामिल
क्यूं अपना मुझे सारे का सारा वो लगा था

दुख दर्द का आलम था परिशान थी मैं ‘ नाज़ ‘
दुख दर्द के आलम में सहारा वो लगा था

नाज़ ख़ान

मैनचेस्टर , इंग्लैंड

***********************************************

***********************************************

***********************************************

One thought on “एक शायरा — एक ग़ज़ल

  1. Great to see، a beautiful poetry of a very famous and beatiful.poetes has been translated in hindi and published in News papeer TEWAR، weldone Tewars..

Comments are closed.