Thursday, September 24, 2020
HINDI NEWS PORTAL
Home > Samachar > पप्पू यादव सीएए के विरोध में चल रहे धरना प्रदर्शन को समर्थन देने पहुंचे समस्तीपुर ।

पप्पू यादव सीएए के विरोध में चल रहे धरना प्रदर्शन को समर्थन देने पहुंचे समस्तीपुर ।

ताजपुर,(22जनवरी 2020,) ताजपुर में सीएए,एन आर सी, एनपीआर के विरोध में बुधवार को इंसाफ मंच समस्तीपुर के बैनर तले थाना चौक ताजपुर में अनिश्चितकालीन सत्याग्रह सातवें दिन भी जारी रहा। इसकी अध्यक्षता आफताब अहमद ने की संचालन रामकुमार ,शहजाद अहमद ने स्य्युक्त रूप से की। मुख्य मेहमान वक्ता राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि अमित शाह सभी भारतीय का डी एन ए करा लिजीए पता चल जाएगा कौन भारतीय है कोन भारतीय नहीं है। आज ये कहते है कि आधार को नहीं मानेंगे तो दो बार इनकी सरकार इसी आधार के जरिए वोट का प्रयोग कर के बनी है तो हम भी इस सरकार को नहीं मानते। आज भारत की जी डी पी बहुत नीचे आ गई है, इसी लिए ये सरकार हिन्दू मुस्लिम करके लोगों को गुमराह कर रही है। सीएए तो बहाना है असल मकसद भारत के संविधान पे हमला है, ये मनुस्मृति को लाना चाहती है। साथ ही पप्पू यादव ने कहा कि आज भारत में कोई मुस्लिम बाहर से नहीं आया, वह इन ब्राह्मणवाद विचारों से तंग होकर एक इस्लाम के विचार धारा को अपनाया उसी में कोई शैख कोई सय्यद बना कोई मुस्लिम भारत मे बाहर से नहीं आया जब जिन्ना चीख चीख कर कह रहा था मुसलमानों पाकिस्तान चलो तो इन मुसलमानों ने भारत में रहना पसंद किया, जिन्ना को ठोकर मार दिया। पप्पू यादव ने कहा कि पुलवामा हमला हुआ नहीं था सरकार ने चुनाव से पहले करवाया था जिस की जांच आज तक नहीं हुई ।

मुख्य वक्ता अबू दोजना विधायक सुरसंड ने कहा के सीएए/एनपीआर तो एक बहाना है असल में ये सरकार सावरकर के विचार के साथ मनुस्मृति को लाना चाहती है। यही वजह है कि आज सारे कानून भारत के संविधान को दरकिनार करते हुए ला रही है,भारत में इतनी बेरोज़गारी बढ़ी हुई कि इस सरकार के पास अब कोई मुद्दा नहीं है। इस लिए ये सरकार भारत की आवाम को गुमराह कर रही है पहले तो हिन्दू मुस्लिम किया मोब्लिंचिंग किया , जब ये कामयाब नहीं हुआ तो ये काला कानून लेकर आयी है। हम सभी हिन्दू मुस्लिम भाइयों को एक साथ मिलकर इसके खिलाफ़ आवाज़ उठाने की जरूरत है, इस काले कानून की वापसी तक । महेंद्र कुमार यादव ने कहा के ये सरकार आर एस एस, विश्व हिन्दू परिषद के हिसाब से चल रही है जो भारत के संविधान को दरकिनार कर एन आर सी , सी ए ए के जरिए मनुस्मृति को लाना चाहती है । मुख्य रूप से. नन्द किशोर महतो फैयाज़ अहमद,कहकशां परवीन,आलिया नज़,ज़ोहरा प्रवीण,मुनतहा सेराज,मरियम मेराज,आदि ने संबोधित किया ।मौके पर अभिभावक सवरूप इकबाल अहम,अरमान सदरी,आकिल इकबाल,संजय नायक, महेंद्र जी ,हाजी फ़िरदौस,इकबाल अहमद जाफरी, हाजी मुराद,मनव्वर साहब,अफकार अहमद , युसुफ साहब, दिलदार हुसैन,, एहसान सदरी ,नुरूज्जोहा_ अाफो,आसिफ होदा, समेत अन्य दलों संगठनों के नेताओं समेत काफी संख्या में लोग मौजूद थे।

banner-tear-oct
Share