Tuesday, May 11, 2021
HINDI NEWS PORTAL
Home > Samachar > बिहार के कांग्रेस नेता अब्दुल जलील मस्तान नहीं रहे , तस्लीमुद्दीन के बाद सीमांचल को बड़ा आघात ।

बिहार के कांग्रेस नेता अब्दुल जलील मस्तान नहीं रहे , तस्लीमुद्दीन के बाद सीमांचल को बड़ा आघात ।

अब्दुल जलील मस्तान अपने अनोखे अंदाज़ और बोलने की अलग शैली के लिए जानें जाते रहे हैं , कभी कभी वो अपने विवादित बयानों के कारण चर्चा में भी रहे हैं । वो सीमांचल के आमौर और कदवा से कई बार विधायक रहे , उन्होंने अपनी राजनीतिक जीवन की शुरुआत 1985 में निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में की और जीत कर इतिहास रचा । उन्होंने आबकारी मंत्री के रूप में भीकुशलतापूर्वक काम किया ।

इनके नाम में मस्तान लगा हुआ था और वो मस्तान के जैसे मस्त रहते थे , इन्हें सीमांचल में तस्लीमुद्दीन अहमद के बाद सब से प्रभावी नेता माना जाता था और इन्होने इसे सच कर के भी दिखया । जब बिहार में हर ओर कांग्रेस जीत रही थी तो उन्होंने निर्दलीय चुनाव जीत कर दिखया और जब कांग्रेस हर जगह पराजित हो रही थी तो उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर जीत कर दिखया । वो किसी पार्टी के मोहताज नहीं थे , पार्टी उनकी मोहताज थी ।